Pages

Follow by Email

Thursday, 9 June 2016

मेक्सिको ने NSG में भारत की सदस्यता का किया समर्थन


पांच देशों की यात्रा के अंतिम पड़ाव पर मेक्सिको में पीएम मोदी ने मेक्सिको के राष्ट्रपति एनरिक पेना नीतो के साथ प्रतिनिधिमंडल स्तर की द्विपक्षीय वार्ता की। दोनों देशों ने अपने रिश्तों को और प्रगाढ़ करने पर सहमति जताई, रणनीतिक साझेदारी, अंतरिक्ष और तकनीक के क्षेत्र में सहयोग बनाने पर भी दोनों देशों में सहमति बनी। अमेरिका के सफल दौरे के बाद प्रधानमंत्री मोदी गुरुवार को मेक्सिको के दौरे पर पहुंचे तो उनके
एजेंडे में सबसे ऊपर एनएसजी की सदस्यता का मामला था। इस लिहाज से स्विटजरलैंड और अमेरिका के बाद मेक्सिको में भी भारत को एक बड़ी कामयाबी मिली है, मेक्सिको ने न्यूक्लियर सप्लायर ग्रुप की सदस्यता के लिए भारत का समर्थन करने का ऐलान किया।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति एनरिक पेना नीतो के बीच हुई बातचीत के बाद मेक्सिको ने इस ग्रुप में सदस्यता के लिए भारत के समर्थन का ऐलान किया। मेक्सिको की तरफ से मिले इस समर्थन के लिए पीएम मोदी ने शुक्रिया अदा किया।इसके अलावा मेक्सिको ने अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन में भी भारत के समर्थन की घोषणा की। दोनों देशों के बीच आईटी, ऊर्जा, फार्मा और मोटर वाहन विकास के क्षेत्रों में भी आगे बढ़ने पर चर्चा हुई। साथ ही दोनों देशों ने अंतरिक्ष विज्ञान और तकनीक को लेकर काम करने में रुचि दिखाई है।कृषि अनुसंधान, जैव प्रौद्योगिकी, कचरा प्रबंधन, आपदा चेतावनी के क्षेत्र में ठोस परियोजनाओं को प्राथमिकता देने पर भी सहमति बनी है। दोनों देशों ने रणनीतिक साझेदारी के संबंधों को और मजबूत बनाने के लिए एक सुदृढ़ प्रारूप को बनाने पर भी सहमति जताई।इससे पहले जब सुबह पीएम मोदी मेक्सिको पहुंचे तो एयरपोर्ट पर उनका शानदार स्वागत किया गया। मेक्सिको की राजधानी मेक्सिको सिटी पहुंचने पर पीएम का स्वागत मेक्सिको के विदेश मंत्री क्लॉडियो मैसियू ने किया।एयरपोर्ट से निकलने के बाद पीएम मोदी होटल गये। जहां पहले से उनके समर्थकों की भीड़ उनके स्वागत में खड़ी थी। पीएम मोदी ने होटल के बाहर खड़े समर्थकों से हाथ मिलाया। इस दौरान पीएम से मिलने के लिए लोगों में होड़ लगी रही।न्यूक्लियर सप्लायर ग्रुप में कुल 48 देश हैं और ज्यादातर देश भारत की तरफ हो गए हैं। एनएसजी की सदस्यता मिलना भारत के लिए काफी अहम है। देश में ऊर्जा की मांग पूरी करने के लिए भारत का न्यूक्लियर सप्लायर ग्रुप में प्रवेश ज़रूरी है।

अगर भारत को एनएसजी की सदस्यता मिल जाती है तो परमाणु तकनीक मिलने लगेगी। परमाणु तकनीक के साथ भारत को यूरेनियम भी बिना किसी विशेष समझौते के मिलेगा। इतना ही नहीं एनएसजी की सदस्यता मिलने पर परमाणु बिजली संयंत्रों के कचरे के निपटारे में भी सदस्य राष्ट्रों से मदद मिलेगी।

पीएम का ये दौरा एनएसजी और निवेश के लिए काफी महत्वपूर्ण रहा। इस लिहाज से जानकार पीएम मोदी की इस यात्रा को अपने मकसद में कामयाब करार दे रहे है। पांच देशों की यात्रा का मैक्सिको अंतिम चरण था।

No comments:

Post a Comment


This free script provided by
JavaScript Kit

Follow by Email