Pages

Follow by Email

Friday, 10 June 2016

बैंक मित्रों के आएंगे 'अच्छे दिन', मिलेगी नई जिम्मेदारी

जागरण ब्यूरो, (हरिकिशन शर्मा)। बैंक मित्रों के दिन अब बहुरने वाले हैं। सरकार ने बैंक मित्रों को प्रोत्साहन देने के लिए बैंकों को तत्काल कदम उठाने को कहा है। बैंक मित्रों को अब लोन आवेदन स्वीकारने और लोन वसूल करने की जिम्मेदारी भी दी सकती है।फिलहाल बैंक मित्र केवल जमाएं स्वीकारने और धन निकासी की सुविधाएं ही उपलब्ध करा सकते हैं। इसके अलावा बैंक मित्रों को अटल पेंशन योजना के सदस्य बनाने का काम भी सौंपा
जा सकता है। ऐसा होने पर न सिर्फ दूरदराज के इलाकों में विविध प्रकार की बैंकिंग और वित्तीय सेवाएं पहुंचेंगी बल्कि कमीशन बढ़ने से बैंक मित्रों की आय भी बढ़ जाएगी। सूत्रों ने कहा कि फिलहाल बहुत से बैंक मित्र काम बीच में ही छोड़कर चले जाते हैं और अक्सर पारिश्रमिक समय पर न मिलने और पर्याप्त न होने की शिकायत भी करते हैं। इसे देखते हुए उन्हें प्रोत्साहन देने की जरूरत है।सूत्रों ने कहा कि वित्त मंत्रालय ने बैंकों से कहा है कि वे बैंक मित्रों के प्रशिक्षण और प्रमाणन के लिए तत्काल कदम उठाएं। साथ ही उन्हें अधिक कमीशन मिल सके इसके लिए उन्हें लोन आवेदन स्वीकारने और लोन वसूलने जैसे काम भी सौंपे जाएं। साथ ही बैंक मित्रों के पास जो धनराशि इकठ्ठी हो रही है, उसका बीमा कराया जाए ताकि उन्हें किसी भी प्रकार की असुरक्षा महसूस न हो।मंत्रालय की तरफ बैंकों को बैंक मित्रों का एक डाटाबेस भी तैयार करने को कहा गया है ताकि बैंक मित्र नेटवर्क की निगरानी ऑनलाइन सुनिश्चित की जा सके। सूत्रों ने कहा कि बैंक मित्रों को अटल पेंशन योजना के सदस्य बनाने का काम भी दिया जा सकता है। केंद्र सरकार की वित्तीय समावेशन की प्रधानमंत्री जन धन योजना तथा दो सामाजिक सुरक्षा योजनाओं की तुलना में अटल पेंशन योजना की प्रगति अब तक धीमी रही है। ऐसे में माना जा रहा है कि दूर दराज के क्षेत्र में रहने वाले लोगों को इस योजना का लाभ लेने के लिए बैंक मित्रों को इसकी जिम्मेदारी दी सकती है। साथ ही शहरी क्षेत्र में रहने वाले लोगों को नेट बैंकिंग के माध्यम से अटल पेंशन योजना का सदस्य बनने की सुविधा भी दी सकती है। ऐसा होने पर अटल पेंशन योजना की प्रक्रिया और सरल हो जाएगी।

No comments:

Post a Comment


This free script provided by
JavaScript Kit

Follow by Email