Pages

Follow by Email

Tuesday, 7 June 2016

इंटरनेशनल एयरोस्पेस प्रदर्शनी में विश्व का पहला थ्री-डी प्रिंटेड विमान थॉर प्रदर्शित


एयरबस द्वारा बर्लिन में आयोजित इंटरनेशनल एयरोस्पेस प्रदर्शनी में 1 जून 2016 को विश्व का पहला थ्री-डी प्रिंटेड विमान थॉर प्रस्तुत किया गया. थॉर नामक यह ड्रोन हाई-टेक वस्तुओं को असल जीवन में उपयोग किये जाने के प्रयोग का एक हिस्सा है. यह किसी सफेद विमान जैसा दिखता है. 
थ्री-डी प्रिंटेड विमान - थॉर

•    यह केवल तीन भागों द्वारा तैयार विश्व का पहला थ्री-डी प्रिंटेड विमान है.
•    इसमें कोई खिड़की नहीं है, इसका वजन 21 किलोग्राम (46 पाउंड) एवं इसकी लम्बाई चार मीटर (13 फीट) से कम है. यह हल्का, तीव्र एवं सस्ता विकल्प है.
•    केवल इलेक्ट्रिक वस्तुओं के अतिरिक्त सभी भाग थ्री-डी प्रिंट से तैयार किये गये हैं.

•    इसकी प्रारंभिक उड़ान नवम्बर 2015 को जर्मनी के शहर हैम्बर्ग में की गयी थी.

•    एयरबस एवं बोइंग में भी थ्री-डी प्रिंट का प्रयोग होता है. इनमें ए350 एवं बी787 विशेष रूप से उल्लेखनीय हैं.
विमानन क्षेत्र में थ्री-डी प्रिंटिंग 
•    आधुनिक थ्री-डी प्रिंटर 40 सेंटीमीटर (15 इंच) तक के टुकड़े प्रिंट कर सकते हैं.

•    इससे लागत तो कम होती ही है साथ ही पर्यावरण पर भी प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ता तथा हल्के विमानों में इंधन की खपत भी कम होती है.

•    यह एक बहुउद्देशीय अविष्कार हो सकता है क्योंकि अगले 20 वर्षों में विमान सेवाओं के दोगुना होने का अनुमान लगाया गया है.

No comments:

Post a Comment


This free script provided by
JavaScript Kit

Follow by Email