Pages

Follow by Email

Friday, 3 June 2016

इस साल पहली बार बिजली सरप्लस होगा भारत

भारत ने इतिहास में पहली बार यह घोषणा की है इस साल देश में बिजली की कमी नहीं होगी।अधिकारी इसका कारण सरकार के फ्यूल की कमी जैसे मुद्दों को सुलझाने को मानते हैं। केंद्रीय बिजली प्राधिकरण के डेटा के अनुसार देश में इस साल 3.1% पीक घंटों में और 1.1% नॉन पीक घंटों में बिजली सरप्लस होगी। एक दशक पहले
पीक समय में बिजली की कमी 13% के करीब थी और पिछले साल बिजली की कमी 3.2% थी। बिजली की मांग और पूर्ति से जुड़े डेटा यह दिखाता है कि जून के बाद से बिजली का उत्पादन जरूरत से ज्यादा होगा। आधे से ज्यादा राज्य बिजली सरप्लस में होंगे और बचे हुए राज्यों में कुछ कमी हो सकती है। मोदी सरकार का कहना है कि देश का बिजली सरप्लस उनकी सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धियों में से एक है। कोयला उत्पादन जो कई सालों से रुका हुआ था वो अब बढ़ गया है। इस वजह से कई पॉवर प्लांट फिर से बिजली का उत्पादन शुरू कर चुके हैं। जानकारों का कहना है कि केंद्र सरकार राज्यों की बिजली मांग को तो पूरा कर रही है लेकिन राज्य अपने घाटे को कम करने के लिए बिजली काटते हैं जिस वजह से उनकी मांग भी जरुरत से कम होती है। इसलिए बिजली सरप्लस होने का मतलब यह नहीं कि आपके 24 घंटे बिजली की आपूर्ति होगी। कांग्रेस इसका श्रेय लेने से नहीं चूक रही। कांग्रेस का कहना है कि बीजेपी सरकार कांग्रेस की ही योजनाओं को अपने नाम से आगे बढ़ा रही है और ऐसे समय में जब लोग बिजली कटौती से जूझ रहे हैं सरकार लोगों को गुमराह कर रही है। 

No comments:

Post a Comment


This free script provided by
JavaScript Kit

Follow by Email