Pages

Follow by Email

Wednesday, 8 June 2016

उत्तर प्रदेश सरकार ने मथुरा हिंसा की जांच हेतु मिर्जा इम्तियाज आयोग का गठन किया


उत्तर प्रदेश सरकार ने 7 जून 2016 को मथुरा के जवाहरबाग कांड हिंसा की घटना की न्‍यायिक जांच हेतु इलाहाबाद उच्‍च न्‍यायालय के सेवा निवृत्‍त न्‍यायाधीश इम्तियाज मुर्तजा को एक सदस्‍यीय जांच आयोग का अध्‍यक्ष बनाया है. उच्‍चतम न्‍यायालय द्वारा घटना की सीबीआई जांच कराने की याचिका पर सुनवाई करने से इनकार ‍कि‍ए जाने के बाद यह आदेश दिया गया.  आयोग को छह बिंदुओं पर जांच पूरी करने हेतु दो माह का
समय दिया गया है. आयोग का मुख्यालय लखनऊ होगा.
जांच के बिंदु-
मथुरा के जवाहरबाग की घटना के कारण और परिस्थितियां 
पूरे घटनाक्रम में अभिसूचना तंत्र द्वारा संकलित सूचनाओं की स्थिति और पुलिस-प्रशासनिक अधिकारियों की भूमिका इस मामले में पर्यवेक्षण करने वाले पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों की भूमिका
कब्जा की गई राजकीय संपत्ति को खाली कराने की कार्य योजना का ब्यौरा और उसकी खामियां
जवाहरबाग में हुई अप्रत्याशित घटना के कारण और उसको रोकने के लिए उठाये गए कदमों की पड़ताल
जवाहरबाग में कब्जा होने के कारणों की पड़ताल
भविष्य में इस प्रकार की घटना की पुनरावृत्ति को रोकने के संबंध में भी आयोग जरूरी सुझाव देगा
क्या है जवाहरबाग कांड हिंसा-
मथुरा के जवाहरबाग की सैकड़ों एकड़ जमीन पर कब्जा खाली कराने गई पुलिस पर दो जून को अतिक्रमणकारियों ने हमला बोल दिया. जिसमें एएसपी व थानाध्यक्ष शहीद हो गए. पुलिस कार्रवाई में अतिक्रमणकारियों का मुखिया रामवृक्ष यादव व अन्य 27 लोग भी मारे गए.
तीसरा जांच अधिकारी-
सबसे पहले आगरा के मंडलायुक्त को जांच सौंपी गयी.
फिर एक ही कमिश्नरी होने का तर्क देकर अलीगढ़ के कमिश्नर को जांच सौंपी गई .
और अब सरकार ने न्यायिक जांच आयोग गठित किया है.
न्यायमूर्ति इम्तियाज के बारे में-
इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ से वकालत की शुरुआत करने वाले मिर्जा इम्तियाज मुर्तजा नवंबर-2001 में इलाहाबाद हाईकोर्ट में न्यायाधीश नियुक्त हुए.
एक मार्च 2015 को वरिष्ठ न्यायाधीश पद से रिटायर हुए.
उत्तर प्रदेश का लोकायुक्त नियुक्त करने के लिए राज्य सरकार की ओर से तैयार किये गए पैनल में भी न्यायमूर्ति मुर्तजा का नाम था.

No comments:

Post a Comment


This free script provided by
JavaScript Kit

Follow by Email