Pages

Follow by Email

Friday, 10 June 2016

सीजीपीसीएस के तहत भारत समुद्री स्थिति जागरुकता पर कार्य समूह का सह-अध्यक्ष नियुक्त

4 जून 2016 को भारत सोमालिया के तट पर चोरी पर बने संपर्क समूह (Contact Group on Piracy off the Coast of Somalia (CGPCS)) के तहत समुद्री स्थिति जागरुकता पर कार्य समूह का सह-अध्यक्ष नियुक्त किया गया.यह फैसला माहे, सेशेल्स में 31 मई-3 जून 2016 के बीच सीजीपीसीएस के 19वें पूर्ण अधिवेशन के दौरान आम सहमति से किया गया.सोमालिया के तट और हिन्द महासागर क्षेत्र में सुरक्षा के लिए भारतीय नौसेना
द्वारा उठाए गए कदम• भारतीय नौसेना और तटरक्षक बल ने गहरे समुद्र में गश्ती को बढ़ाने और इस क्षेत्र में चलने वाले जहाजों को नौसेना एस्कॉर्ट्स उपलब्ध कराने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.

• समुद्र–यात्रा के काम में नियुक्त भारतीय जहाजों और भारतीय नागरिकों की रक्षा करने में भारतीय नौसेना ने 23 अक्टूबर 2008 से अदन की खाड़ी में डकैत-विरोधी गश्त शुरु की थी.

• भारती का झंडा लगे जहाजों की रक्षा के अलावा अन्य देशों के जहाजों की भी भारतीय नौसेना ने रक्षा की है.


• वर्तमान में अंतरराष्ट्रीय संस्तुत ट्रांजिट कॉरिडोर (आईआरटीसी) के पूरे रास्ते, जिस पर भारतीय नौसेना बहुत गश्त लगाती है, पर व्यापारी जहाजों को सुरक्षा प्रदान की जा रही है.

• इलाके में उच्च डिग्री की सतर्कता को बनाए रखने के लिए बीते वर्ष करीब 19 तटीय सुरक्षा अभियान और अभ्यास किए गए.

सोमालिया के तट पर चोरी पर बने संपर्क समूह (Contact Group on Piracy off the Coast of Somalia (CGPCS)) के बारे में

• यह राष्ट्रों, अंतरराष्ट्रीय संगठनों, निजी क्षेत्र और नागरिक समाज का गठबंधन है जो डकैती के खिलाफ समन्वित तरीके से लड़ाई लगने के लिए एक जुट हुए हैं.

• इसकी स्थापना संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिष्द के संकल्प 1851 (2008) के तहत की गई थी, जिसे बाद में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद संकल्प 1918 (2010) से बदल दिया गया.

• यह कॉनटैक्ट ग्रुप मॉडल के आधार पर काम करता है जो राष्ट्रों और संगठनों के बीच सोमालिया की डकैती को दबाने के लिए चर्चा और समन्वित कार्रवाई की सुविधा प्रदान करता है.

• अब तक भारत समेत 60 से अधिक देश और अंतरराष्ट्रीय संगठन इस फोरम के हिस्सा बन चुके हैं.

• सेशेल्स सीजीपीसीएस का वर्तमान अध्यक्ष है. यह दो वर्षों (2016-17) के लिए अध्यक्ष बना रहेगा.

No comments:

Post a Comment


This free script provided by
JavaScript Kit

Follow by Email