Pages

Follow by Email

Saturday, 4 June 2016

न्यूक्लियर सप्लायर ग्रुप की सदस्यता के लिए भारत ने किया आवेदन

हालांकि अमेरिका ने भारत का समर्थन किया था और कहा था कि भारत मिसाइल प्रौद्योगिकी नियंत्रण व्यवस्था की आवश्यकताओं को पूरा करता है और इस विशिष्ट क्लब में शामिल होने के लिए तैयार है।भारत ने ये कवायद चार जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिका यात्रा से ठीक पहले शुरू की है। अब भारत के इस आवेदन पर 9-10 जून को विएना में होने वाली बैठक में फ़ैसला लिया जाएगा।1975 में न्यूमक्लियर सप्लाकयर्स ग्रुप की स्थाापना की गई थी। मौजूदा समय में 49 देश इसके सदस्यय हैं।परमाणु हथियार बनाने में इस्तेूमाल की जाने वाली सामग्री की आपूर्ति से लेकर नियंत्रण तक इसी के दायरे में आता है। इस बीच भारत गुरुवार को वैश्विक बैलिस्टिक मिसाइल प्रसार व्यवस्था में शामिल हो गया। हालांकि उसने स्पष्ट किया है कि इसका राष्ट्रीय सुरक्षा और देश के मिसाइल कार्यक्रमों पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

No comments:

Post a Comment


This free script provided by
JavaScript Kit

Follow by Email