Pages

Follow by Email

Saturday, 4 June 2016

74 की उम्र में मुहम्मद अली का निधन


फीनिक्स (यूएस). बॉक्सर मुहम्मद अली नहीं रहे। वे 74 साल के थे। उन्हें सांस लेने में तकलीफ थी। वर्ल्ड चैम्पियन रहे इस बॉक्सिंग लेजेंड को गुरुवार को फीनिक्स के हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया था। 1960 के रोम ओलिंपिक में एक रेस्त्रां में किसी ने उन पर नस्ली कमेंट कर दिया था। इससे नाराज होकर उन्होंने अपना गोल्ड मेडल ओहियो नदी में फेंक दिया था। 1996 में अटलांटा ओलिंपिक के दौरान उन्हें यही गोल्ड मेडल
दोबारा दिया गया। एक पुलिसवाले की सलाह पर उन्होंने बॉक्सिंग सीखी थी। होम टाउन में होगा फ्यूनरल...
- अली का जन्म 17 जनवरी 1942 को अमेरिका के लुईसविले में हुआ था।
- उनकी फैमिली के मुताबिक, अली का फ्यूनरल भी उनके होम टाउन लुईसविले में होगा।
56 मुकाबले जीते
- अली का मूल नाम कैशियस मार्सेलस क्ले जूनियर था। उन्हें 'द ग्रेटेस्ट' के नाम से भी जाना जाता था।
- 1964 में उन्होंने इस्लाम धर्म कबूलकर मुहम्मद अली नाम रख लिया।
- रिंग में अली अपने फुटवर्क और पंच के लिए जाने जाते थे।
- अली 1981 में बॉक्सिंग से रिटायर हो गए थे। उनके खाते में 56 जीत शामिल हैं। उनके करियर में 37 नॉकआउट मुकाबले और महज 5 हार रहीं।
इसलिए अपनाया था इस्लाम
- अली 1964-78 के बीच 3 बार हैवीवेट वर्ल्ड चैंपियन रहे।
- पहली बार चैंपियन बनने के बाद वे मैल्कम एक्स के ब्लैक मुस्लिम मूवमेंट से जुड़ गए।
- इसके बाद उन्होंने इस्लाम धर्म अपना लिया। अली का मानना था कि उनका नाम (कैशियस क्ले) ज्यादा 'व्हाइट' था।
- हालांकि बाद में अली मैल्कम एक्स से अलग हो गए।
कम IQ के चलते हुए 2 बार हुए थे आर्मी से रिजेक्ट
- आर्मी ने अली को दो बार रिजेक्ट कर दिया था। उनका इंटेलिजेंट कोशन्ट (IQ) तय मानक से कम (78) बताया गया था।
- हालांकि बाद में आर्मी ने अचानक उन्हें फिट करार दे दिया। 
- 28 अप्रैल, 1967 में आर्मी ने उन्हें शामिल करने के लिए ड्रॉफ्ट तैयार किया। लेकिन अली ने आर्मी में जाने से मना कर दिया।
- यही नहीं अली ने चौंकाते हुए वियतनाम वॉर में भी जाने से मना कर दिया।
- अली ने कहा- "मेरी वियतनाम के लोगों से कोई लड़ाई नहीं है। किसी वियतनामी ने उनके खिलाफ खराब शब्दों का इस्तेमाल नहीं किया।"
- अली को ड्रॉफ्ट तोड़ने का दोषी करार देते हुए 5 साल जेल की सजा दी गई।
- हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने इस फैसले को गलत करार दिया और अली को जेल नहीं जाना पड़ा।

No comments:

Post a Comment


This free script provided by
JavaScript Kit

Follow by Email