Pages

Follow by Email

Tuesday, 7 June 2016

13,000 मीट्रिक टन आयातित दाल पहुंची, और आयातित दाल आएगी


लगभग 13,000 आयातित दालें देश में आ गई हैं और लगभग 6,000 मीट्रिक टन आयातित दाल आने के क्रम में है। आयातित दाल में 11,000 मीट्रिक टन तुर दाल तथा 2,000 मीट्रिक टन उड़द दाल है। 38,500 मीट्रिक टन दाल के आयात के ठेके के अतिरिक्त सरकारी एजेंसियों ने 51,000 मीट्रिक टन खरीफ तथा 60,000 मीट्रिक टन रबी दाल की खरीदारी की है।  यह जानकारी आज आवश्यक सामग्रियों की कीमतों की समीक्षा के लिए आयोजित
अंतर-मंत्रालय समिति की बैठक में दी गई। बैठक की अध्यक्षता उपभोक्ता मामलों के सचिव श्री हेम पांडेय ने की । 
राज्य सरकारों से बार-बार यह आग्रह किया गया है कि वे सुरक्षित भंडार दाल लें, ताकि उचित मूल्य पर बेच सकें। दाल की कीमत 120 रुपये प्रति किलो ग्राम से अधिक नहीं होनी चाहिए। तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान और तेलंगाना के अनुरोध पर कुछ दाल दी गई है। तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना उपभोक्ताओं के लाभ के लिए दाल की कीमत में और सब्सिडी दे रहे हैं। दिल्ली में केंद्रीय भंडार और सफल को बेचने के लिए दाल दी गई है। इन एजेंसियों ने अभी तक 120 रुपये प्रति किलोग्राम की दर से 635.31 क्विंटल तुर दाल तथा 245 क्विंटल उड़द दाल बेची है। समिति को बताया गया कि भारतीय खाद्य निगम के भंडार में लगभग 32 मिलियन टन गेंहू है, जबकि सार्वजनिक वितरण प्रणाली की आवश्यकता लगभग 24 मिलियन टन गेहूं की है। सरकार ने चालू वित्त वर्ष में खुले बाजार में बिक्री के लिए 6.25 मिलियन टन गेहूं की स्वीकृति दी है। नेफेड तथा एसएफएसी द्वारा अब तक 15,635 मीट्रिक टन प्याज की खरीद की गई है। 

No comments:

Post a Comment


This free script provided by
JavaScript Kit

Follow by Email