Pages

Follow by Email

Saturday, 28 May 2016

प्रसारण अधिकार रखने वाले चैनल बिना विज्ञापनों के दें फीड: SC

प्रसार भारती के साथ साझा किए जाने वाले खेल प्रसारण की लाईव फीड में प्राईवेट चैनल किसी भी तरह के विज्ञापन या कंपनी लोगो का नहीं दे सकते। 
सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में दिल्ली हाईकोर्ट के फ़ैसले पर मुहर लगा दी है जिसमें प्राईवेट चैनलों को निर्देश दिया गया था कि वह राष्ट्रीय महत्व के खेलों की क्लीन फीड ही प्रसार भारती को मुहैय्या कराएंगे।

इस मामले में प्रसार भारती का कहना था कि उसे मिलने वाली फीड में किसी भी तरह के विज्ञापन या कंपनियों के "लोगो" नहीं होने चाहिए। 

जबकि स्टार की दलील थी कि वह अपने विज्ञापन तो हटा सकता है लेकिन कई तरह के कंपनी लोगो खेल आयोजक मसलन आईसीसी, बीसीसीआई और कंपनियों के बीच का मामला है और इन्हें हटाने का उसे कोई अधिकार नहीं है।

स्टार की ओर से कहा गया था कि स्पोर्ट्स ब्रॉडकास्ट सिग्नलस 2007 का नियम-5 संविधान सम्मत नहीं है। हालांकि, इन दलीलों को कोर्ट ने नहीं माना।

स्पोर्ट्स ब्रॉडकास्ट सिग्नलस 2007 के अनुसार देश में दिखाए जाने वाले राष्ट्रीय महत्व के किसी भी खेल की फीड प्रसार भारती के साथ साझा किया जाना अनिवार्य है।

नियम के मुताबिक टीवी विज्ञापनों से प्रसार भारती को होने वाली आय का 75 प्रतिशत राजस्व प्रसारण अधिकार रखने वाली कंपनी को जाता है। 

No comments:

Post a Comment


This free script provided by
JavaScript Kit

Follow by Email