Pages

Follow by Email

Friday, 13 May 2016

हर चौथी गर्भवती स्त्री गर्भपात की शिकार

शोध में पाया गया कि दोनों तरह के देशों में- जहां गर्भपात क़ानूनी है और जहां यह ग़ैर-कानूनी है- गर्भपात की दर समान है. शोधकर्ताओं का तर्क है कि गर्भपात पर प्रतिबंध लगाने से गर्भपात पर रोक नहीं लगती बल्कि लोग इसके लिए ग़ैर-कानूनी तरीक़े अपनाने लगते हैं, जो असुरक्षित भी हो सकते हैं. रिपोर्ट में बताया गया है कि पश्चिमी यूरोप में गर्भपात की दर में थोड़ी वृद्धि हुई है. शोधकर्ताओं के अनुसार इसका संबंध पूर्वी यूरोप से महिलाओं के पलायन से हो सकता है. शोधकर्ताओं के अनुसार संभव है कि इसके पीछे गर्भनिरोधक के बारे में जागरुकता का अभाव या गर्भपात के अधिक दर वाले देशों से आने जैसे कारण हो सकते हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन के डॉक्टर बेला गनात्रा का कहना है, "गर्भपात की ऊंची दर इस बात का सबूत है कि हमें महिलाओं तक असरकारक गर्भनिरोधक सेवाएं पहुंचानी होगी." लेकिन अध्ययन यह भी कहता है कि गर्भनिरोधक तक पहुंच को बढ़ा देने भर से इस समस्या का समाधान नहीं होगा. कई महिलाओं ने बताया कि साइड इफेक्टस के कारण वे गर्भनिरोधक का इस्तेमाल नहीं करना चाहती हैं.

No comments:

Post a Comment


This free script provided by
JavaScript Kit

Follow by Email