Pages

Follow by Email

Thursday, 19 May 2016

खिलाड़ी और खेल से जुड़े लोगों के राष्ट्रीय कल्याण कोष योजना में संशोधन


राष्ट्रीय कल्याण कोष योजना में संशोधन किया है. संशोधन के तहत खिलाड़ियों हेतु वित्तीय सहायता प्राप्त करने की अहर्ता सीमा बढ़ा दी गई है.
राष्ट्रीय कल्याण कोष के बारे में-   
  • खिलाड़ियों और खेल से जुड़े लोगों हेतु राष्ट्रीय कल्याण कोष की स्थापना 1982 में हुई थी.
  • कोष की स्थापना पुराने दौर के उन बेहतरीन खिलाड़ियों की सहायता के लिए की गई थी, जिन्होंने अपने प्रदर्शन से देश का गौरव बढ़ाया था लेकिन अब गरीबी में रह रहे हैं.
  • जुलाई, 2009 में इस योजना की अंतिम बार समीक्षा की गई थी और इसके आधार पर इसमें संशोधन हुआ था.
संशोधन-
  • संशोधित योजना के तहत अब खिलाड़ियों के लिए वित्तीय सहायता प्राप्त करने की अहर्ता सीमा बढ़ा दी गई है.
  • पहले यह सीमा दो लाख रुपये वार्षिक आय थी, अब इसे बढ़ा कर चार लाख रुपये कर दिया गया है.
  • इस योजना का दायरा भी बढ़ाया गया है ताकि ज्यादा से ज्यादा खिलाड़ियों और खेल से जुड़े लोगों को वित्तीय सहायता योजना का लाभ मिल सके.
  • कल्याण कोष से आवंटित होने वाली राशि भी बढ़ा दी गई है.
वित्तीय सहायता-
इस स्कीम के तहत गरीबी में रह रहे खिलाड़ी, खेल से जुड़े लोगों और उनके परिवार के सदस्य निम्नलिखित वित्तीय सहायता प्राप्त करने के हकदार होंगे-
1. गरीबी में रह रहे बेहतरीन खिलाड़ियों और खेल से जुड़े लोगों के लिए अधिकतम पांच लाख रुपये की वित्तीय सहायता उपलब्ध कराई जा सकती है.
2. प्रशिक्षण या प्रतियोगिता में हिस्सा लेते समय घायल होने पर खिलाड़ियों और खेल से जुड़े लोगों को 10 लाख रुपये तक की अधिकतम वित्तीय सहायता दी जा सकती है.
3. पांच लाख रुपये की अधिकतम वित्तीय सहायता उन बेहतरीन खिलाड़ियों और खेल से जुड़े लोगों के परिवार वालों को दिया जाएगा, जो अब इस दुनिया में नहीं हैं.
4. गरीबी में रह रहे बेहतरीन खिलाड़ियों या उसके परिवार के किसी सदस्य के इलाज के दस लाख रुपये तक की वित्तीय सहायता दी जाएगी.
5. दो लाख रुपये तक की सहायता राशि कोच और उनसे जुड़े सहायक जैसे खेल डॉक्टर, खेल मनोचिकित्सक, परामर्शदाता और राष्ट्रीय कोचिंग शिविरों से जुड़े मालिश करने वालों को दी जाएगी.
  • वरिष्ठ श्रेणी के खिलाड़ियों और राष्ट्रीय टीम (वरिष्ठ श्रेणी) के कोचिंग कैंपों में शामिल इस तरह के लोगों को यह सहायता दी जाएगी.
  • अंतरराष्ट्रीय मैचों, ओलंपिक, एशियाई और कॉमनवेल्थ गेम में अंपायर, रेफरी, मैच अधिकारियों को भी यह मदद दी जाएगी.
  • यह सहायता उस स्थिति में मिलेगी जब इस तरह के खेलों से जुड़े खिलाड़ी और उनसे जुड़े लोग निर्धनता में रह रहे हों या उनका परिवार निर्धनता में रह रहा हो.

No comments:

Post a Comment


This free script provided by
JavaScript Kit

Follow by Email