Pages

Follow by Email

Wednesday, 25 May 2016

भारत ने विश्वबैंक के साथ 100 मिलियन डॉलर के ऋण समझौते पर हस्ताक्षर किए


भारत ने कर्नाटक शहरी जलापूर्ति आधुनिकीकरण परियोजना के लिए 25 मई 2016 को बहुपक्षीय ऋण प्रदाता एजेंसी विश्वबैंक के साथ 10 करोड़ डॉलर (करीब 677 करोड़ रुपये) के ऋण समझौते पर हस्ताक्षर किए.
इस ऋण समझौते पर भारत की ओर से आर्थिक मामलों के विभाग में संयुक्त सचिव राज कुमार और विश्वबैंक की ओर विश्वबैंक के कार्यकारी निदेशक (भारत) माइकल हैने ने हस्ताक्षर किए.


परियोजना का उद्देश्य-
कर्नाटक शहरी जलापूर्ति आधुनिकीकरण परियोजना का लक्ष्य कर्नाटक के विभिन्न शहरों में पाइप से लगातार पानी की आपूर्ति करना और शहरों के स्तर पर सेवा आपूर्ति व्यवस्था को मजबूत करना है.

इस परियोजना को लागू करने का जिम्मा कर्नाटक शहरी बुनियादी विकास एवं वित्त निगम को दिया गया है.

इस परियोजना से कर्नाटक राज्य के पात्र शहरों को एक सतत नल-जल की आपूर्ति करने के लिए शहर भर में व्यापक पहुँच मिल सकती है.

शहर स्तर पर सेवा वितरण व्यवस्था भी मजबूत हो सकती है.

परियोजना के बारे में -
इस परियोजना को चार व्यापक घटकों में विभाजित किया गया है.

इन घटकों में पूंजी निवेश कार्यक्रम, संस्था निर्माण, क्षेत्र के विकास के लिए तकनीकी सहायता और परियोजना प्रबंधन शामिल हैं. 

यह परियोजना छह वर्षों में पूरी होगी और सबसे पहले हुब्बली-धारवाड़ में शुरू की जाएगी.

बाद में इस परियोजना को विस्तार देकर अन्य शहरों में भी शुरू की जाएगी.

इस परियोजना से हुब्बली-धारवाड़ के लगभग एक मिलियन लोगों को लाभ होगा जिनमें एक लाख 60 हजार झुग्गीवासी हैं.


No comments:

Post a Comment


This free script provided by
JavaScript Kit

Follow by Email